Shigra vivah ke upay || शीघ्र विवाह (marriage) के अचूक उपाय

  • Whatsapp

Shigra vivah ke upay || शीघ्र विवाह (marriage) के उपाय
Marriage यानी कि एक सांसारिक संबंध जिसमें स्त्री और पुरुष दोनों मिलकर एक नए life की शुरुआत करते हैं। आज के time Shigra vivah ke upay में हर एक parents अपने बच्चों की सही time पर marriage हो इसलिए चिंतित रहते हैं। आज के इस जमाने में Boy या girls 30 से 35 साल तक love या तो leave in relationship में रहते हैं। जब Age बीत जाती है और love का भूत उतर जाता है तब Marriage का important समझ में आता है। काफी लोगों का Marriage time पर नहीं होता या तो फिर ऐसा होता है कि काफी सारे try के बावजूद Marriage नहीं होता। Marriage यानी सात फेरों से और सात वचनों से बंधने वाला बंधन जिनमें दो लोग एक दूसरे से वचनों में बंध कर happy life की नींव रखते हैं।

शीघ्र Marriage के लिए उपाय करने से पहले हम यह देख लेते हैं कि कुंडली में निम्नानुसार दोष होंगे तो सबसे पहले उसे ठीक करवाना अति आवश्यक है।

लड़की या लड़के की कुंडली में विवाह की अड़चनों का कारण!
लड़की की कुंडली horoscope में अगर गुरु नीच का होगा या तो गुरु पर शुभ ग्रह की दृष्टि ना होगी तो विवाह में बाधा आएगी।
गुरु के ऊपर राहु या केतु की दृष्टि हो या तो बृहस्पति के ऊपर शुभ ग्रह की दृष्टि होने के कारण भी marriage में late होता है।
उसी प्रकार लड़के की horoscope में शुक्र का बल होना अति आवश्यक है। अगर लड़के की कुंडली में शुक्र नीच का होगा, शुक्र पर अशुभ ग्रह की दृष्टि होगी, शुक्र ग्रह अशुभ ग्रह की दृष्टि में या तो उसकी युति में होगा, तो लड़के का विवाह विलंब से होगा या तो नहीं होगा।
लडके की horoscope में शुक्र छठे भाव में आठवें भाव में या तो बारहवें भाव में विराजमान होगा तो भी लड़के को Marriage के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।
लड़का और लड़की की कुंडली के सप्तम भाव के स्वामी यानी कि सप्तमेश पर शुभ ग्रह की दृष्टि न हो सप्तमेश कुंडली के छठे भाव ,आठवें भाव या बारहवें भाव में स्थित होने पर भी विवाह में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।
सप्तमेश नीच का होकर बैठा या तो अशुभ ग्रह के साथ युति कर कर बैठा हो तो भी विवाह में देरी होती है या तो दिक्कत आती है।
कुंडली के सप्तम भाव में शुभ ग्रह का होना या फिर राहु केतु का होना भी विवाह में अड़चनें पैदा करता है।
इसके अलावा दोनों की कुंडली में यानी कि लड़का और लड़की की कुंडली में पंचमेश की स्थिति भी देखना अति आवश्यक है। क्योंकि पंचम स्थान प्यार का स्थान माना जाता है।अगर पंचमेश की स्थिति अच्छी नहीं होगी या पंचमेश नीच का या क्रूर ग्रहों से दृष्ट युक्त होगा तो भी विवाह में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।
काफी Astrologer marriage के लिए द्वादश भाव को भी महत्व देते हैं क्योंकि द्वादश भाव सहशयन का भाव माना जाता है। यानी कि द्वादश भाव के स्वामी का भी बल होना यहां पर आवश्यक माना जाता है। अगर व्यय स्थान यानी की द्वादश भाव बिगड़ा हुआ होगा तो भी विवाह में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।

 

मंगल दोष या मांगलिक कुंडली।
लड़का या लड़की की कुंडली में पहले भाव यानी कि लगन भाव ,चौथे भाव ,सातवें भाव और द्वादश भाव में अगर मंगल स्थित होगा तो यह कुंडली मांगलिक कुंडली मानी जाती है।
मांगलिक लड़का या लड़का हो तो उसकी शादी मांगलिक लड़के या लड़की से ही करवानी चाहिए।
मंगल दोष होने के कारण भी विवाह में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।
इन स्थानों में स्थित मंगल अपने कारक्तव के कारण इन भावों को नकारात्मक बना देता है। जैसे कि सप्तम स्थान में विराजमान मंगल पति पत्नी के बीच हमेशा मनमुटाव का कारण बन जाता है।
मंगल दोष के उपाय।
अगर कुंडली में मंगल दोष है तो हर रोज हनुमान चालीसा का पाठ करें।
हनुमान जी को मिट्टी के बर्तन में बूंदी का भोग चढ़ावे।तथा हनुमानजी के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें।
हनुमान जी को शनिवार या मंगलवार के दिन चोला अर्पण करें।
मांस मदिरा का सेवन न करें।
भाइयों के साथ संबंध अच्छे बनाए रखें।
लड़की को कुंभ विवाह करना चाहिए।
लड़के को आश्वस्थ विवाह करना चाहिए।
घर से बाहर निकलते समय नित्य गुड़ का सेवन करें।
मांगलिक होने के कारण विवाह ना हो रहा हो तो मंगलवार के दिन चंडिका स्त्रोत्र का पाठ करें तथा शनिवार के दिन हनुमान जी के मंदिर में जाकर सुंदरकांड का पाठ करें।
शीघ्र विवाह के लिए लड़कियां निम्नानुसार उपाय करें।
लड़कियों के लिए शीघ्र विवाह Shigra vivah ke upay के हेतु बृहस्पति का कुंडली में बलशाली होना अति आवश्यक है। बस पति को ठीक करने हेतु निम्नानुसार उपाय करें।

बृहस्पतिवार को सूर्योदय से पहले स्नान करें एवं स्वच्छ एवं पवित्र पीले रंग के वस्त्र धारण कर शिव के मंदिर में जाएं। वहां पर दीपक जलाकर भगवान शिव को केले का भोग धरावे। तथा शिवजी को अपनी शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें।

हर बृहस्पतिवार के दिन व्रत रखें और पीले रंग के ही वस्त्र धारण करके रखें।

ॐ ग्रां ग्रीं ग्रों स: गुरूवे नम: ॥

मंत्र का पांच माला प्रति गुरुवार जप करें।

गुरुवार के दिन हल्दी लगाई हुई घी वाली रोटी मैं चने की दाल रखकर गाय को खिलाएं।

शीघ्र विवाह के लिए लड़के निम्नानुसार उपाय करें।

लड़के की कुंडली में शुक्र को बल देने के लिए और शुक्र को ठीक करने हेतु निम्नानुसार उपाय करने चाहिए जिससे इनका विवाह शीघ्र ही हो सके।

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *